भारत “इनक्रिडिबल (अविश्वसनीय)” है, लेकिन जिन लोगों ने अपनी कड़ी मेहनत से “भारत” को पुरे विश्व में ये स्थान दिलाया है वो अपना ही बजूद स्थापित नहीं कर  पाएं । ऐसे भारतीय हस्तकरघा कलाकार जिन्हें कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है , आज मूलभूत सुविधाओं के बिना ही अपना जीवन व्यतित कर रहे थे । भारतीय हस्तकरघा कलाकारों को अपनी आजीविका, स्वास्थ्य, शिक्षा और उनके परिवार के सदस्यों की सुरक्षा के लिए भी कई कठनाईयों का सामना करना पड़ता है । ज्यादातर भारतीय हस्तकरघा कलाकार गरीबी रेखा से नीचे जीवन व्यतित कर रहे थे । कई भारतीय हस्तकरघा कलाकारों को अपने दो वक्त की रोटी के लिए स्थानीय लेनदारों से ब्याज़ पर पैसे उधार लेना पड़ता है । और उनके काम से होने वाली आमदनी इतनी भी नहीं के वो अपना ऋण चुका सके । और यह एक बड़ी वजह की वो अपने खानदानी कला को छोड़ कर दूसरे व्यवसायों से आकर्षित हो रहे है ।

आजादी के बाद भारतीय हस्तकरघा कलाकारों के विकास के लिए से विभिन्न योजनाएं बनाई गयी है ।1963 में, शिल्प के उत्कृष्टता के लिए वार्षिक राष्ट्रीय पुरस्कार स्थापित किया गया था। लेकिन आज शिल्पकार गरीबी और बीमारी से जूझते हुए चौराहों और सड़कों पर जीवन बीता रहे है । कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित शिल्पकारों का मानना है की हमारी सरकार को इनके बुनयादी समस्याओं पर गौर करना चाहिए । इनका कहना है की इनकी समस्या वैश्विक नहीं है, इनकी समस्या इनके आजीविका एवं बुनियादी जरूरतों से संबंधित है।

अगर हम शिल्पकारों को मदद करना चाहते है तो हमें इनके लिए वास्तविक खरीदारों को इन तक पहुचाना चाहिए । और ये तभी सम्भव है अगर हम सही स्थान पर इसका प्रचार प्रसार करें । साथ सरकार को इन शिल्पो के लिए राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मेलाओं का आयोजन करना चाहिए ।

मैत्रेय संसथान (एन.जी.ओ.) ने इन भारतीय हस्तकरघा कलाकारों के विकास के लिए एक कदम उठाया है और इंडियन मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स कॉउंसिल के नाम से अभियान शुरू किया है। इस अभियान के अंतरगत हम शिल्पकारों एवं भारतीय हस्तकरघा कलाकारों के कला को इंटरनेशनल मार्केट तक पहुँचाने के लिए अलग अलग रणनीति का प्रयोग कर रहे हैं । इसके साथ साथ हम इन भारतीय हस्तकरघा कलाकारों को औद्योगिक प्रशिक्षण भी उपलब्ध करा रहे हैं । हमारी विशेषज्ञ टीम भारतीय हस्तकरघा कलाकारों को अंतरराष्ट्रिय स्तर तक पहुँचाने के लिए अलग अलग देशों में तरह तरह के प्रदर्शनी, समारोह, मेला, सांस्कृतिक कार्यक्रम इत्यादि का आयोजन करते है ।

आप भी हमारे इस अभियान का हिस्सा बन सकते हैं । हमसे जुड़ने के लिए हमारी वेबसाइट द्वारा रजिस्टर करें ।